About Rabbit in Hindi, Rabbit in Hindi, Essay on Rabbit in Hindi, Information About Rabbit in Hindi

About Rabbit in Hindi । खरगोश के बारे में

About Rabbit in Hindi । खरगोश के बारे में : दोस्तों, आज मैं कक्षा 1 से 12 तक के सभी विद्यार्थियों के लिए खरगोश पर निबंध (Khargosh Par Nibandh) लिखने का प्रयास करी हूं।

इस निबंध के माध्यम से आज मैं आप सबको खरगोश के बारे (About Rabbit in Hindi) में जहां तक संभव हो सके विस्तृत जानकारी देने का प्रयास करूंगी।

तो चलिए चलते है, अपनी मुद्दों की ओर, और जानते हैं, खरगोश के विषय में कुछ महत्वपूर्ण बातें।

About Rabbit in Hindi । खरगोश के बारे में 

खरगोश एक छोटा-सा सुंदर एवं आकर्षक जानवर है। यह देखने में काफी प्यारा और चंचल होता है। खरगोश (Rabbit in Hindi) उन जानवरों में शुमार है, जो दुनिया के हर एक कोने में पाया जाता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है, कि खरगोश एक शाकाहारी जानवर है। हम सभी बचपन में खरगोश और कछुआ के बीच के रेस की कहानी सुन चुके हैं।

जिसमें बताया गया है, कि खरगोश कितना चालाक, चतुर और बुद्धिमान होता है। यह मुख्य रूप से फल और घास खाता है। इतना ही नहीं बल्कि खरगोश मुख्यतः घास के मैदानों, जंगलों, खेतों इत्यादि जगहों पर रहना पसंद करता है।

खरगोश का मुलायम बाल इनको सबसे आकर्षक बनाता है। खरगोश की सबसे बड़ी खासियत तो यह है, कि यह काफी तेज दौड़ता है। सबसे आश्चर्य की बात तो यह है, कि 2 किलो का खरगोश 9 किलो के कुत्ता के बराबर पानी पी सकता है।

नर खरगोश (Male Rabbit) को Buck और मादा खरगोश (Female Rabbit) को Does कहा जाता है। साथ ही खरगोश के बच्चे को Kit या Kitten कहा जाता है।

Eassy About Rabbit in Hindi। खरगोश पर निबंध

खरगोश एक शाकाहारी पालतू जानवर है, जो विभिन्न रंगों में संसार के लगभग हर भागों में पाया जाता है। यह प्यारा-सा जीव 40 से 50 सेंटीमीटर लंबा होता है।

हम बचपन से ही खरगोश से परिचित हैं, क्योंकि बचपन में हम खरगोश से संबंधित कई कहानियां सुन चुके हैं। खरगोश एक ऐसा जीव है, जिसके सिर्फ पैरों की तली में ही पसीना आता है।

खरगोश का जीवनकाल सामान्य रूप से 8 से 10 वर्षों का होता है। यह 1 दिन में 18 बार झपकी लेता है और लगभग अपना 8 घंटा सोने में बिताता है।

सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है, कि खरगोश आंख खोल कर भी सो सकता है। इतना ही नहीं बल्कि यह अपने आप को बचाने के लिए सीधा न दौड़ कर टेढ़ा-मेढ़ा दौड़ता है।

खरगोश औसतन 30-40 किलोमीटर प्रति घंटा की तेज गति से दौड़ सकता है। यह काफी फुर्तीला होता है। यूरोप महादेश में लोग खरगोश के पैर को अपने गले में पहनते हैं।

इसके पीछे उनकी मान्यता है, कि उनका किस्मत इससे अच्छा बना रहेगा। खरगोश अपनी खुशी का इजहार हवा में उछल कर पटखनी खाकर करता है।

सबसे खास बात तो यह है, कि खरगोश का आधा आबादी उत्तरी अमेरिका (North America) में पाया जाता है। खरगोश के मांस को खाया जाता है।

इस कारण इसका शिकार बहुत ही ज्यादा संख्या में किया जा रहा है। खरगोश की एक खासियत यह भी है, कि इसे ठंडी में कम और गर्मी में अधिक सुनाई देता है।

दुनिया भर में सबसे ज्यादा यूरोपियन खरगोश को पालतू बनाया जाता है। खरगोश हमेशा इधर-उधर उछल कूद करते रहता है। यह कभी शांत नहीं बैठता है।

Information About Rabbit in Hindi in 550 Words

यह एक खूबसूरत जीव है। जो मात्र 40 से 50 सेंटीमीटर लंबा होता है। साथ ही साथ इस का वजन 1.5 से 2.5kg के बीच होता है। यह दुनिया के हर देशों में पाया जाता है तथा इसकी संख्या भी काफी है।

इसकी शारीरिक संरचना भी बहुत आकर्षक होता है। इसके दो कान होते हैं, जो इसके शरीर की तुलना में थोड़ा बड़ा होता है। साथ ही साथ इसके दो गील आंखें होती है और एक पूंछ होती है।

खरगोश के बारे (About Rabbit in Hindi) में एक रोचक तथ्य यह भी है, कि यह लगभग 8 से 10 घंटे नींद लेता है। यह पूर्णतः शाकाहारी होता है I इस छोटे से जीव का आयु काल 8 से 10 वर्षों का होता है।

गाजर खरगोश का सबसे प्रिय फल है। दुनिया भर में खरगोश के 350 से अधिक प्रजातियां पाई जाती है। खरगोश की एक खासियत यह भी है, कि यह अपने दोनों आंखों की सहायता से 360° तक देख सकता है।

यह बहुत तेज रफ्तार से भाग सकता है। खरगोश औसतन 40-60 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से दौड़ सकता है। मनुष्यों की तुलना में खरगोश में अधिक स्वाद कणिकाएँ होती है।

विश्व में खरगोश को पालने का मुख्य उद्देश्य खरगोश से मांस प्राप्त करना होता है, क्योंकि खरगोश का मांस बहुत ही पौष्टिक होता है। पूरे विश्व में चीन एक ऐसा देश है, जहां सबसे ज्यादा खरगोश को मांस के लिए मारा जाता है।

खरगोश साल में 4 बार अपना बाल बदलता है। यह विभिन्न रंगों में पाया जाता है। इसकी सबसे मुख्य पहचान यह है, कि यह हमेशा उछलकूद करते रहता है।

मादा खरगोश का गर्भावधि लगभग 1 महीने का होता है। सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है, कि खरगोश का दाँत जीवन भर बढ़ते रहता है। खरगोश भोजन को बहुत चबा कर खाता है।

खरगोश के बच्चे की सबसे बड़ी खासियत यह है, कि इनके बच्चों का आंख जन्म से लगभग 2 सप्ताह बाद तक बंद रहता है। खरगोश को उसकी चंचलता और फुर्तीलापन के लिए विश्व में जाना जाता है।

क्योंकि यह हमेशा इधर-उधर उछल कूद करते रहता है। खरगोश के बच्चे की सबसे बड़ी विशेषता यह है, कि जन्म के समय इसके शरीर पर बाल नहीं रहता है।

साथ ही साथ खरगोश का बच्चा जन्म से लगभग 10-12 दिनों तक चल भी नहीं पाता है। इतना ही नहीं बल्कि खरगोश की सुनने की क्षमता काफी अधिक होती है।

जिस कारण यह कम आवृत्ति वाले ध्वनि को भी सुन सकता है। इन सबके अलावा चूंकि खरगोश एक स्तनधारी जीव है। इस कारण मादा खरगोश के शरीर पर स्तन भी पाया जाता है।

खरगोश अंटार्कटिका महाद्वीप को छोड़कर विश्व के हर एक भागों में पाया जाता है। आमतौर पर जंगली खरगोश मिट्टी में खड्डा बनाकर रहता है।

खरगोश को अपना खड्डा बनाने में उसके पैरों की नुकीली नाखून मदद करती है। साथ ही साथ जंगली खरगोश मुख्य रूप से झूंड में रहना पसंद करता है।

खरगोश के पालने का एक फायदा यह भी है, कि इससे अंगोरा ऊन प्राप्त किया जाता है। जिस से बने कपड़े बहुत ही गर्व एवं मुलायम होते हैं।

Essay About Rabbit in Hindi, Information About Rabbit in Hindi, Essay on Rabbit in Hindi

Long Type Eassy About Rabbit in Hindi

खरगोश एक छोटा सा स्तनधारी जीव है। जिसकी संख्या पृथ्वी पर बहुतायत है। खरगोश स्तनधारी जीव होने के साथ-साथ शाकाहारी जीव भी है।

यह जीव दुनिया के लगभग सभी देशों में पाया जाता है। इसके आकर्षक रंग और मखमली बाल के कारण इसे लोग बहुत ही ज्यादा पसंद करते हैं।

इस छोटे से जानवर का शरीर लगभग 40 से 50 सेंटीमीटर लंबा होता है तथा इसका वजन भी कुछ 1.5 से 2.5 kg के बीच होता है। हमारे भारत देश में खरगोश से संबंधित कई कहानियां प्रसिद्ध है।

बीसवीं शताब्दी के मध्य तक खरगोश को चूहे, गिलहरी इत्यादि के श्रेणी में ही रखा जाता था। परंतु बाद में इसे ‘लैगोमॉर्फा’ की श्रेणी में रख दिया गया।

खरगोश के बारे में एक आश्चर्य की बात यह है, कि जितना पानी 9kg का कुत्ता पी सकता है। उतना पानी 2kg का खरगोश भी पी सकता है।

आज संसार में खरगोश के नाम कई रिकॉर्ड है। खरगोश की खासियत यह भी है, कि खरगोश का लगभग आधा जनसंख्या दक्षिणी अमेरिका में पाया जाता है।

यह काफी चंचल होता है। जंगली खरगोश पालतू खरगोश के मुकाबले कम जीता है। खरगोश के झुंड को “कॉलोनी” कहा जाता है।

खरगोश का शारीरिक संरचना । Body Structure of Rabbit in Hindi

इस प्यारे-से जीव का शारीरिक संरचना बहुत ही आकर्षक एवं सुंदर होता है। यह एक पालतू चौपाया जानवर है। इसे दो आंख, दो कान ,एक नाक और एक मुंह होता है।

खरगोश का कान इसके शरीर के मुकाबले बड़ा होता है। इतना ही नहीं बल्कि खरगोश के पंजे में काफी नुकीले मजबूत नाखून होते हैं। साथ ही साथ खरगोश को सिर्फ इस के पंजे के तली में ही पसीना आता है।

इन सब के अलावे खरगोश की एक खासियत यह भी है, कि यह बहुत कम हर्टज की आवाज को भी सुन सकता है। यह 40 से 60 किलोमीटर प्रति घंटा की तेज गति से दौड़ सकता।

खरगोश अपने दुश्मन से बचने के लिए हमेशा टेढ़ा-मेढ़ा भागता है। खरगोश के पुंछ को बॉब कहा जाता है। इसकी सबसे बड़ी विशेषता तो यह है, कि यह 360 डिग्री तक देखता है।

इसके अलावा खरगोश के मुंह में 28 दांत होते हैं, जो जीवन भर भरते रहते हैं। मादा खरगोश में (Rabbit in Hindi) एक अतिरिक्त शारीरिक संरचना स्तन पाया जाता है।

खरगोश का आँख गोल आकार होता है। साथ ही साथ चमकीला भी होता है। इसकी मांसपेशियां काफी लचीला होता है। इसके शरीर पर बहुत ही घना और मुलायम बाल पाया जाता है।

इसके मुंह में लगभग 14000 स्वाद कणिकाएं होती है। साथ ही खरगोश का हृदय 1 मिनट में 135 बार धड़कता है।

खरगोश का जीवनकाल। Lifespan of Rabbit in Hindi

खरगोश का जीवनकाल सुखी-संपन्न और आरामदायक होता है।आमतौर पर खरगोश का जीवन काल 8 से 10 वर्षों का होता है। यह हर हमेशा कुछ न कुछ करते रहता है। यह कभी शांत नहीं बैठता है।

खरगोश 1 दिन में 8 से 10 घंटे तक सोता है। इतना ही नहीं बल्कि खरगोश 1 दिन में 18 बार तक झपकी ले सकता है। साथ ही इसकी सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह आंख खोलकर भी सोने में सक्षम होता है।

यह जानवर आमतौर पर घास के मैदानों, खेतों, जंगलों इत्यादि जगहों पर खड्डा बनाकर रहता है। पालतू खरगोश पिंजरा में रहता है, जबकि जंगली खरगोश जमीन में खड्डा खोदकर रहता है।

खरगोश का प्रजाति। Species of Rabbit in Hindi

जहां तक खरगोश की प्रजाति की बात है, तो इस संबंध में हम कह सकते हैं, कि पालतू खरगोश के लगभग 350 से अधिक प्रजातियां होती है। जो दुनिया के अलग-अलग भागों में पाया जाता हैI

सबसे बड़ी बात तो यह है, कि जंगली खरगोश के मात्र 13 प्रजातियां होती है। खरगोश के कुछ प्रजातियों के नाम निम्नलिखित हैं – अस्लाका, मिनी लोप, रेक्स खरगोश, वालकेनो, पोलिश, होलेंड लोप, तैपती, बर्ष, जर्सी वूली।

खरगोश के उपयुक्त सभी प्रजातियां दुनिया के विभिन्न भागों में पाया जाता है। सबसे खास बात तो यह है, कि यूरोपीय खरगोश को विश्व में सबसे ज्यादा पाला जाता है।

खरगोश का रंग। Colour of Rabbit

खरगोश एक ऐसा जानवर है, जो विभिन्न रंगों में पाया जाता है। यह विभिन्न देशों में विभिन्न रंगों में पाया जाता है। खरगोश आमतौर पर भरा, काला, सफेद, चिटपटर इत्यादि रंगों में पाया जाता है।

यह अपने आकर्षण रंग के कारण सभी को अपनी ओर आकर्षित करता है। यही कारण है, कि इसे दुनिया में सबसे ज्यादा संख्या में पाला जाता है।

खरगोश का भोजन। Food of Rabbit

यह तो हम सभी जानते हैं, कि खरगोश एक शाकाहारी जीव है। यह काफी छोटा होता है। इस कारण इसे बहुत कम भोजन की आवश्यकता होती है।

खरगोश मुख्य रूप से घास, पत्तियां, फल ,सब्जी, फूल इत्यादि खाता है। खरगोश का सबसे प्रिय फल (Favourite food of Rabbit) गाजर है।

इसकी एक खासियत यह है, कि यह आपने भोजन को बहुत ही ज्यादा चबाकर खाता है। खरगोश लगभग 120 बार अपने भोजन को चबाता है।

खरगोश उल्टी नहीं कर सकता है। खरगोश को मांस के लिए बड़ी संख्या में मारा जाता है। चीन खरगोश के मांस का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। यहां प्रतिदिन लगभग करोड़ों खरगोश को मारा जाता है।

खरगोश में प्रजनन। Reproduction in Rabbit in Hindi

चूंकि खरगोश एक स्तनधारी जीव है। इस कारण खरगोश में लैंगिक प्रजनन होता है। अर्थात मादा खरगोश और नर खरगोश अलग-अलग होते हैं।

मादा खरगोश का गर्भकाल औसतन 30 से 32 दिनों का होता है। यह एक बार में 8 से 10 बच्चों को जन्म देती है। खरगोश के बच्चे (Bunny of Rabbit in Hindi) को Kit या Kitten कहा जाता है।

खरगोश का बच्चा जब जन्म लेता है, तो उसके शरीर पर न तो बाल होते हैं, न वह चल फिर पाता है और न ही उसकी आंखें खुली होती है। खरगोश के बच्चे का आंख जन्म से 2 सप्ताह बाद खुलता है और वह चलना प्रारंभ करता है।

मादा खरगोश आमतौर पर 8 सप्ताह तक अपने बच्चे को दूध पिलाती है। सबसे बड़ी बात तो यह है, कि मादा खरगोश साल में लगभग 4 बार गर्भधारण कर बच्चों को जन्म देती है।

उपसंहार (Conclusion)

इस प्रकार हम कह सकते हैं, कि खरगोश काफी सुंदर, चंचल और फुर्तीला जानवर होता है। यह काफी आकर्षक होता है। खरगोश को हम सब को ज्यादा से ज्यादा पालना चाहिए।

वास्तव में खरगोश एक प्यारा-सा सुंदर जीव है। यह दुनिया का बेहद फुर्तीला जानवरों में से एक है। साथ ही यह कई तरह से हमारी मदद भी करती है।

10 Sentence About Rabbit in Hindi। खरगोश से संबंधित  दस रोचक तथ्य

  • खरगोश एक चौपाया स्तनधारी जीव है।
  • खरगोश शाकाहारी होता है।
  • खरगोश 40 से 60 किलोमीटर प्रति घंटा की तेज रफ्तार से दौड़ सकता है।
  • खरगोश 1 दिन में 8 से 10 घंटे तक सोता है।
  • मादा खरगोश का गर्भ काल लगभग 1 महीने का होता है।
  • मादा खरगोश को Does और नर खरगोश को Buck कहा जाता है।
  • इसका जीवनकाल 8 से 10 वर्षों का होता है।
  • खरगोश के पास लगभग 14000 स्वाद कणिकाएं होती है, जो मनुष्य से 5000 ज्यादा है।
  • खरगोश उल्टी नहीं कर सकता है।
  • खरगोश 40 से 50 सेंटीमीटर लंबा और 1.5-2.5 kg वजन का होता है।

Rabbit से सम्बंधित कुछ FAQs

  1. मादा खरगोश को क्या कहा जाता है?

    मादा खरगोश को “डो” (Deo) कहा जाता है।

  2. खरगोश क्या खाता है?

    खरगोश एक शाकाहारी जीव है। यही कारण है, कि यह दाना, सब्जियां, घास आदि खाता है।

  3. Rabbit कितने प्रकार के होते हैं?

    विश्वभर में खरगोश की 8 प्रजातियां पाई जाती है।

  4. खरगोश की औसत जीवनकाल कितनी होती है?

    खरगोश की औसत आयु 8 से 10 साल तक की होती हैं।

  5. नर खरगोश को क्या कहा जाता है?

    नर खरगोश को “बक” (Buck) कहा जाता है।

Related Posts-