Encryption Meaning in Hindi

Encryption Meaning in Hindi । एन्क्रिप्शन क्या होता है?

एन्क्रिप्शन क्या है? (What is Encryption in Hindi) : अगर आप ऑनलाइन दुनिया में अपने डाटा के Privacy को लेकर सतर्क है, तो Definitely आपने एन्क्रिप्शन के बारे में सुना होगा। लेकिन क्या आपको इसके बारे में सबकुछ पता है? अगर नहीं! तो इस पोस्ट को पढने के बाद Encryption का मतलब (Encryption Meaning in Hindi) आपको अच्छी तरह से समझ में आ जायेगा।

आज हम सब जानते है, कि दुनिया धीरे-धीरे Digitalize होती जा रही है। ऐसे में आज हम हमारे दैनिक जीवन के ज्यादातर महत्वपूर्ण काम Online ही कर लेते है। चाहे मोबाइल फ़ोन का रिचार्ज हो या फिर Banking Transaction हम सभी काम आज घर बैठे ऑनलाइन ही कर लेते है।

जिस तरह ऑनलाइन दुनिया हमारे जीवन को आसान बना देती है। ठीक उसी तरह असतर्कता के कारण कभी कभार ये हमारे लिए बहुत बड़ी परेशानी का सबब भी बन जाती है। अगर आप न्यूज़ पेपर पढ़ते है, तो आपने आये दिन Cyber Crime से जुडी कई घटनाएँ (जैसे कि Data Breach, Online Banking Fraud) पढ़ी या सुनी होगी।

हाल ही में Famous Social Media Platform Facebook Data Breach और Telegram DDoS Attack को लेकर काफी चर्चा में रहा है। जिस कारण US Regulators ने फेसबुक पर $5 बिलियन USD का जुर्माना लगाया है। जो कि अब तक किसी कंपनी पर लगाया गया सबसे बड़ा जुर्माना है।

वैसे ऑनलाइन दुनिया में कोई भी चीज को 100% Secure नहीं होती है। लेकिन जहाँ तक हो सके हम सावधानी तो बरत सकते है। इसलिए आज हम साइबर सिक्योरिटी के एक बहुत ही Common Term Decryption और Encryption का मतलब (Decryption and Encryption Meaning in Hindi) क्या होता है? को विस्तार से समझने वाले है।

Encryption का मतलब (Encryption Meaning in Hindi)

Encryption एक ऐसा Process है, जिसके द्वारा किसी भी प्रकार के Message या Data or Information को Readable Form से Convert करके Encrypted या Encoded Form में बदल दिया जाता है। जिसे केवल वही Person Access या Decode कर सकता है, जिसके पास इसकी Authorization Permission हो या Decryption Key हो।

Global Network पर मौजूद Data के End-to-End Protection के लिए यह एक बहुत ही Important Method है। End-to-End Encryption (E2EE) Method में Sender और Receiver के अलावा कोई भी Third Party Message को Access नहीं कर सकता है।

क्या आप जानते है? सोशल नेटवर्किंग साईट WhatsApp भी Chatting के लिए E2EE का इस्तेमाल करती है। मतलब अगर आप किसी Person को WhatsApp पर Message, Photo या Video Send करते है, तो उसे केवल वही Read कर सकता है, जिसे आपने भेजा है।

कोई भी Third Party यहाँ तक की WhatsApp भी उस Message को नहीं पढ़ सकता है। Encryption Web Browser और Web Servers के बीच भेजे जा रहे डाटा के Security के लिए बहुत Important है। जिसमे कई प्रकार की Personal or Sensitive Information शामिल होती है। जैसे कि Card Number, Expiry Date, CVV, Passwords आदि।

कई बड़ी-बड़ी Organization भी अपने Computer, Tablet, Mobile या Servers की Security के लिए Encryption का इस्तेमाल करती है। अब आपको एन्क्रिप्शन का मतलब (Encryption Meaning in Hindi) समझ में आ गया होगा। तो आइये अब हम इसके कार्य प्रणाली के बारे में जानने की कोशिश करते हैं।

Encryption कैसे काम करता है। How to Encryption Work?

जैसे कि मैंने आपको पहले ही बता दिया है, कि जब भी आप किसी भी सोशल मीडिया (जैसे कि WhatsApp) पर किसी से Chat करते है, तो इस दौरान आपके डाटा को Secure करने के लिए एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल किया जाता है।

उदाहरण के तौर पर जब आप WhatsApp पर किसी को मैसेज भेजते है, या फिर कोई आपको मैसेज भेजता है, तो इस दौरान Encryption आपके मैसेज को Algorithms की मदद से Scramble करके एक Encrypted Key Generate करता है।

या दुसरे शब्दों के कहे तो आपके मैसेज के Digitally Encrypted Form में Convert कर दिया जाता है। जिससे इसे Crack करना या Decode करना बहुत मुश्किल हो जाता है। इसलिए उस मैसेज को सिर्फ वही Person Read या Decode कर सकता है, जिसके पास वह Encrypted Key या Cryptographic Key हो।

किसी भी मैसेज के Encrypted Form या Unreadble Form को Ciphertext कहा जाता है।

Encryption के प्रकार । Type of Encryption in Hindi

एन्क्रिप्शन मुख्य रूप से दो प्रकार के होते है-

  1. Symmetric Encryption
  2. Asymmetric Encryption

01. Symmetric Encryption

Encryption के इस प्रकार में किसी भी प्रकार के Electronic Data को Encrypt और Decrypt करने के लिए केवल एक ही Key (Secret Key) का इस्तेमाल किया जाता है।

इस तरह के एन्क्रिप्शन में डाटा को एल्गोरिथम की मदद से एक ऐसे फॉर्म में परिवर्तित कर दिया जाता है। जिससे इसे समझना बेहद मुश्किल हो जाता है। इसे केवल वही व्यक्ति पढ़ सकता है जिसके पास इसका Secret Decrypt Key हो।

मान लिए आपने किसी अपने को कोई मैसेज भेजा। तो Algorithm की मदद से Automatic उस व्यक्ति के पास एक Decrypt Key Generate हो जाता है। क्योंकि आपके द्वारा भेजा हुआ सन्देश व्यक्ति तक एन्क्रिप्टेड रूप में पहुचता है।

तब पुनः Algorithm उस Encrypted Message को Decrypt Key के माध्यम से Readable Form में बदल देता है। जिससे व्यक्ति उस मैसेज  उसी रूप में पढ़ सकता है जिस रूप में आपने उसे भेजा था।

02. Asymmetric Encryption

यह एन्क्रिप्शन Symmetric Encryption के ठीक विपरीत होता है। मतलब इसमें डाटा को Encrypt और Decrypt करने के लिए Public और Private Keys का उपयोग किया जाता है। इसमें Keys को Key Generation Protocol Algorithm (Mathematical Function का एक प्रकार) की सहायता से एक Paired Key Generate किया जाता है।

जिसमे से एक Key को सभी के साथ साझा (Share) किया जाता है, जिसे Public Keys कहा जाता है। वही दुसरे तरफ एक Keys को Secret रखा जाता है, जिसे Private Keys कहा जाता है। कई प्रोटोकॉल जैसे कि SSL/TLS, SSH, OpenPGP, S/MIME Encryption के लिए Asymmetric Keys का इस्तेमाल करती है।

Encryption का इतिहास । History of Encryption in Hindi

जानकारी के मुताबिक Encryption शब्द की उत्पति Greek भाषा के Cryptus शब्द से हुई है। जिसका अर्थ होता है – गुप्त। पहले के जमाने में एन्क्रिप्शन का उपयोग चित्रलिपि के द्वारा किया जाता था। जिसको समझना बहुत ही मुश्किल था।

सन्न 1970 के बाद एन्क्रिप्शन ज्यादा प्रचलन में आया। सन्न 1976 में मार्टिन हेल्मैन और बी वाह्इटफिल्ड ​डेफी एक विशेष प्रकार की Cryptography Paper तैयार किया जिसमे उसने Encryption और  Decryption से सम्बंधित पूरी जानकारी दी है। इसके बाद धीरे-धीरे Technology Field में इसका विस्तार होता चला गया। प्रारंभ में एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल सिर्फ सेना और महत्वपूर्ण सरकारी संस्थानों में किया जाता था। लेकिन अब इसका विस्तार काफी Broad हो चूका है।

Encryption के फायदे । Benefits of Encryption in Hindi

ऑनलाइन दुनिया में एन्क्रिप्शन हमारे डाटा को हैकिंग से बचाता है और हमें एक Secure Environment Provide करता है। इसलिए आज सभी छोटी और बड़ी Companies अपने Important Data को सुरक्षित रखने के लिए एन्क्रिप्शन का इस्तेमाल करती है।

तो आइये जानते है, कि एन्क्रिप्शन के क्या-क्या फायदे है।

  • Secure Connection Between Web Browser & Web Server

Encryption किसी भी वेब ब्राउज़र और वेब सर्वर के बीच एक सुरक्षित संपर्क स्थापित करता है। जब आप किसी साईट को विजिट करते है, और अगर उस साईट में ऊपर आपको Green Padlock दिखे तो इसका मतलब उस साईट को SSL (Site Secure Layer) से सुरक्षित किया गया है। और ऐसे साईट पर विजिट करने में कोई परेशानी नहीं है।

लेकिन अगर किसी साईट पर आपको यह ग्रीन लॉक नहीं दिखे तो आप तुरंत उस साईट से Exit हो जाये। क्योंकि ऐसे साईट को विजिट कारण आपके लिए Harmful हो सकता है।

  • Secure Connection Between Multiple Devices
SSL Encryption Kya Hai

जी हां! आज सभी को पता है, कि Smartphone का हमारे जीवन में क्या Importance है। आज एक दिन भी Smartphone के बिना रहना मुश्किल हो जाता है। क्योंकि हमारी दैनिक लाइफ की ज्यादातर काम आज Smartphone से ही होता है। ऐसे में हमारा सारा Important और Sensitive Data जैसे कि ईमेल ID Credit Card Number, Cvv Number आदि  हमारे मोबाइल में ही होती है।

इसलिए जरा सोचिये अगर वह डाटा किसी दुसरे व्यक्ति के हाथ लग जाये तो क्या होगा? इसलिए Data Encryption Software आपके मोबाइल और PC के पूरे डाटा को हमेशा Encrypted फॉर्म में सुरक्षित रखता है।

Cyber Security से Related कुछ Facts

  • 90% Hackers Tracks को Cover करने के लिए Encryption का इस्तेमाल करता है।
  • 131 ईमेल में से 1 ईमेल में Malware पाया जाता है।
  • Windows के बाद Android Hackers का Most Targeted Platform है।
  • 230,000 नए Malware रोज बनते हैं और भविष्य में इसकी और ज्यादा बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।
  • सन्न 2017 में 4000 Daily Attacks के साथ Ransomware Attacks में 37% का इजाफा हुआ है।
  • प्रत्येक वर्ष लगभग 6.5% लोग Identity Fraud का शिकार होते है। जिससे लगभग $16 बिलियन का नुकसान होता है।
  • Ransomware Attack के बाद Average $1077 का डिमांड किया जाता है।
  • 43%  Cyber Attacks में SEMs (Small and Medium Sized Enterprises) को निशाना बनाया जाता है।

Encryption से संबंधित कुछ FAQs

  1. दुनिया का Most Secured Encryption क्या है?

    AES (Advanced Encryption Standard) आज दुनिया का सबसे Secure Symmetric Encryption Algorithm है। जिसका उपयोग United States Government अपने Classified Information और कई Software को Protect करने के लिए करता है।

  2. आज सबसे Strongest Encryption Method कौन-सा है?

    The RSA (Rivest Shamir Adleman) Asymmetric Encryption Algorithm आज दुनिया का सबसे Powerful Encryption Form है, जो 2048 से 4096 bit-keys तक के Key Length को सपोर्ट करता है।

  3. क्या https को Crack किया जा सकता है?

    Key Encryption का Standard Level 2048 bit का होता है, जबकि Certificate Encryption 256 bit तक का होता है।…अगर आप 1 Billion High Performance GPU Computers को एक -दुसरे से Inter-connected कर दें, जो एक Second में 2 बिलियन कैलकुलेशन को भी आसानी से भी Calculate कर सकता है। तब भी SSL Encryption को Crack करना मुश्किल है।

  4. SSL Encryption क्या होता है?

    SSL (Secure Socket Layer) किसी भी Server (Website) और Web Browser के बीच एक Secure Connection प्रोवाइड करता है।

  5. Encryption को Break करने में कितना समय लगता है?

    अगर हम 128-bit AES को Super Computer द्वारा Brute Force Attack करके ब्रेक करने की कोशिश करे तो 1 बिलियन Year का समय लग जायेगा। जो हमारे ब्रहमांड के Age से भी ज्यादा है।

  6. Encryption के कौन-कौन से मुख्य Elements हैं?

    Symmetric Encryption के मुख्यतः पांच Component हैं- Secret Key, Ciphertext, Plain Text, Encryption Algorithm और Decryption Algorithm.

Conclusion

हमें उम्मीद है, कि आपको एन्क्रिप्शन का मतलब (Encryption Meaning in Hindi) पूरी तरह समझ में आ गया होगा। लेकिन अगर आपके मनन में इससे सम्बंधित अब भी कोई Doubt रह गया हो तो आप नीचे Comment बॉक्स में हमें पूछ सकते है। हमें आपकी सहायता करने में ख़ुशी होगी।

साथ ही अगर यह पोस्ट आपके लिए हेल्पफुल रहा हो, तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के बीच अपने सोशल मीडिया एकाउंट्स पर जरुर शेयर करे।

ये भी पढ़े-